Dr. हुल्दा क्लार्क और क्लार्क जैपर

डा. हुल्दा क्लार्क, क्लार्क-जैपर के आविष्कारक

डा. हुल्दा क्लार्क (1928-2009), कनाडा में जन्म, को मुख्य रूप से उनके क्लार्क जैपर और उनकी पुस्तक “द क्योर ऑफ ऑल डीजिज” के लिए जाना जामा है।

डा. क्लार्क वास्तव में जानती थी कि दो प्रमुख मुद्दों विज्ञान और प्राकृतिक चिकित्सा का संयोजन कैसे करना है. जीवविज्ञान का अध्ययन करने और फिजियोलॉजी में अपनी डॉक्टर की ड्रिग्री लेने के बाद वह संभावनाएं और उपकरण जैसे- क्लार्क जैपर – विकसित करने के लक्ष्य के साथ गहन रूप से प्राकृतिक चिकित्सा की तरफ मुड़ गई, जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपनी चिकित्सा स्वयं करना संभव बना सके.

1963 में, डा् क्लार्क ने अपना प्राकृतिक चिकित्सा क्लिनिक खोला और 2007 तक एक प्राकृतिक चिकित्सक के रूप में कार्य करती रही, जहां कैंसर का उपचार उनके कार्य का केंद्र में था। 44 वर्षों में, डा. क्लार्क काफी अनुभव हासिल करने में सक्षम हो गई और इसे कुल 8 पुस्तकों मं प्रकाशित करवाया, जिनमें से 6 पुस्तकों में कैंसर का सामना करने के विषय पर चर्चा की गई है.

क्लार्क थैरेपी, के अनुसार जीर्ण रोग के केवल दो कारण होते हैं फेसियोलोपसिस बस्की और पर्यावरणीय विष.

डा. हुल्दा क्लार्क ने एक जांच उपकरण जिसे सिंक्रोमीटर, कहा गया, को औद्योगिक रूप से तैयार खाद्य उत्पादों, सौंदर्य प्रसाधनों और दैनिक जरूरत के अन्य उम्पादों द्वारा शरीर में एकत्रित प्रदूषकों और अन्य विभिन्न परजीवियों, रोगाणुओं, विषाणुओं और फंगस की (विशिष्ट आवृत्तियों के लिए एक गुंजयमान प्रतिक्रिया द्वारा) खोज करने के लिए विकसित किया, जो उनके सिद्धांत के अनुसार अंगो में स्थापित हो सकते हैं और गंभीर जीर्ण रोगों का कारण हो सकते हैं। डा. क्लार्क्‍ बताती हैं कि प्रदूषक, परजीवी या रोगाणु एक मापन योग्य प्रतिध्वनि प्रतिक्रिया द्वारा “उनकी स्वयं” की विशिष्ट आवृत्ति तक “अपने आप को प्रकट” करते हैं और उतनी ही आवृत्ति में कथित जैपर द्वारा  सूक्ष्म विद्य़त उत्प्रेरण द्वारा कमजोर किए जा सकते हैं।

अपनी पुस्तक “द’ क्योर फॉर ऑल डिजीज” में डा. क्लार्क उनके स्वयं द्वारा तैयार किए गए एक क्लार्क जैपर को घर में तैयार करने के निर्देश ओर विशिष्ट आवृत्तियों में सूक्ष्म विद्य़त उत्प्रेरण द्वारा लक्षित विष निवारण और परजीवियों को कमजोर करने के जिए विस्तृत जानकारी प्रदान करती हैं। डा. हुल्दा क्लार्क ने मलोत्सर्जन अंगों को मुक्त करने के लिए रेसिपी और दिशानिर्देश जैसे लीवर सफाई, किडनी सफाई और आंत्र सफाई तैयार किए।

एक डा. हुल्दा क्लार्क क्लार्क एक जैपर निर्माण हेतु मार्गदशेन करने के साथ प्रत्येक व्यक्ति को पर्यावरणीय विषों, परजीवियों और विशेष रूप से कैंसर के विरूद्ध संघर्ष करने में खुद की मदद करने का अवसर प्रदान करना चाहती थी।

यद्यपि निश्चित तौर पर उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन डा. क्लार्क ने खुद को झुकने नहीं दिया और विचार की स्थापित प्रक्रिया को तोड़ने पर जोर देना जारी रखा – उन्होंने एक नये मार्ग पर बढ़ने का साहस किया जिसने विज्ञान और प्राकृतिक चिकित्सा का संयोजन किया।

कानूनी प्रताड़ना के बावजूद डा. हुल्दा क्लार्क ने कभी भी मामलों का कीमा नहीं बनाया और अपने उस सिद्धांत से चिपकी रही कि जैपर के साथ थैरेपी से स्थाई कैंसर का इलाज हो सकता है जैसा कि उनकी पुस्तकों में बताया गया है

बाद में प्रतिरक्षण सुरक्षा, डा. क्लार्क्र – के लिए शरीर की सुरक्षा को मजबूती प्रदान करना भी बड़ा मुद्दा था। उनके अनुसंधान ने अनेक लोगों को उनके स्वयं के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने के लिए प्रेरित किया।

 

  • डायमण्ड शील्ड जैपर डा. हुल्दा क्लार्क के इस शानदार उपकरण का विकसित रूप है जो मूल संस्करण की ही तरह हमें बहुत से विकल्पों और नयी विशेषताओं की पेशकश करता है।