TENS क्या है?

[title size=”1″ content_align=”left” style_type=”single” sep_color=”” class=”” id=””]TENS = Transcutaneous Electrical Nerve Stimulation[/title][checklist icon=”fa-star-o” iconcolor=”#ffffff” circle=”” circlecolor=”#81d742″ size=”small” class=”” id=””][li_item icon=””]Transcutaneous Electrical Nerve Stimulation (TENS) आधुनिक पीड़ा प्रबंधन उपचार में एक आजमाई हुई विधि है. छोटे, पोर्टेबल और नेटवर्क से स्वतंत्र उपकरणों का उपयोग करते हुए त्वचा इलेक्ट्रोड के माध्यम से ऊत्तकों तक विद्युत आवेग प्रदान किए जाते हैं जिनका एनाल्जेसिक प्रभाव होता है।[/li_item][li_item icon=””]इतिहास

पहले, 40 ई. सन में स्क्राबोनियस लार्गस ने ब्लैक इलेक्ट्रिक किरण के एनाल्जेसिक प्रभाव की पहचान की थी जो विद्युत आवेगों का उत्सर्जन करती हैं। गठिया के रोगियों को समुद्री जल में पैरों के नीचे दर्द रूकने तक एक लाइव विद्युत किरण रखनी चाहिए।

विद्य़त आवेगों के एनाल्जेसिक प्रभाव को लंबे समय तक भुला दिया गया था। कम से कम 1965 तक जब उन्हें पता चला कि विद्युत उत्तेजना के माध्यम से तंत्रि‍काओं की पीड़ा के आवेगा को मस्तिष्क तक आगे नहीं भेजेगा। नवीनतम अनुसंधान इस सिद्धांत का समर्थ करते हैं और यह भी दर्शाते हैं कि विभिन्न प्रामापकों के साथ वर्तमान एप्लिकेशनों का उपयोग अनेक नैसर्गिक ओपियोड्स (पदार्थ जो संरचना और कार्य में प्राकृति अफीम के समान होते हैं) ) को एनाल्जेसिक प्रभाव के साथ वितरिक करता है।[/li_item][li_item icon=””]पीड़ा हमारा एक हिस्सा है

पीड़ा स्वयं में महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमारे शरीर की सुरक्षा और आसन्न खतरे की चेतावनी देता है। तथापि, हम पीड़ा को सभी शारीरिक अनुभूतियों में सबसे अप्रिय के रूप अनुभव करते हैं। दर्द बहुत ही व्यक्तिपरक घटना है और इस प्रकार इसे केवल इकाइयों में व्यक्त करना आसान नहीं है। हहमें से प्रत्येक इसे अलग रूप में अनुभव करता है।. दर्द की ग्राह्यता अन्य कारकों के साथ-साथ दिन के समय पर निर्भर करती है और यह जैविक लय के शर्ताधीन है। सायंकाल और रात्रि के समय यह ज्यादा होता है, जबकि दिन के समय यह कम हो जाता है।

दर्द के अनेक स्वरूप होते हैं : यह सुस्त, लकवाग्रस्त या कष्टप्रद हो सकता है लेकिन थपकाने; टैपिंग, चुभने या दमनकारी भी होता है। यह अचानक उत्पन्न होने के साथ ही सामयिक उत्पन्न हो सकता है या बारंबार उत्पन्न होता है।

पीड़ा को केवल इस प्रकार अनुभव किया जाता हे, जब एक मौजूदा दर्द की सूचना मस्तिष्क द्वारा अनुभव की जाती है। यह विभिन्न रास्तों और विशिष्ट रिसेप्टरों या क्षतिग्रस्त तंत्रिकाओं द्वारा भी किया जाता है जो दर्द की जानकारी मस्तिष्क तक संचारित करते हैं, जहां उन्हें मस्तिषक के खास हिस्सों में प्रक्रमित किया जाता है। मस्तिष्क तक निरंतर पीड़ा की जानकारी के कारण इसकी कोशिकाओं में एक परिवर्तन होता है और इससे संबंधित दर्द की अनुभूति उत्पन्न होती है : एक कथित दर्द स्मृति निर्मित होती है। इसका मतलब है मस्तिष्क कोशिकाएं दर्द की अनुभूति याद रखती हैं, चाहे दर्द लंबे समय तक उत्पन्न नहीं हुआ हो। इसको तीव्र और जीर्ण दर्द के बीच में निदान और सुसंगत उपचार दोनों में ही अन्तर किया जाता है।

तीव्र पीड़ा शरीर के लिए एक उपयोगी चेतावनी संकेत है, उदाहरण जब एक गर्म स्टोव को छूते हैं तो आप इसके बारे में विचार किए बगैर तुरंत अपना हाथ पीछे खींच लेते हैं क्योंकि शरीर अनैच्छिक रूप से स्वतंत्र कार्य करता है।

जब जीर्ण पीड़ा के बारे में बात करते हैं तो यह वह दर्द है जो 3 महीने से ज्यादा मौजूद रहता है। इस प्रकार का दर्द इसकी चेतावनी प्रणाली खो देता है और इसके कारण दर्द स्मृति का निर्माण हो सकता है।

आधुनिक पीड़ा प्रबंधन उपचार का लक्ष्य जीर्ण पीड़ा को विकसित होने और दर्द स्मृति निर्मित होने से बचाव करना है।[/li_item][li_item icon=””]TENS के प्रभाव

विभिन्न करंट प्रामाकों को चुनने के द्वारा विभिन्न तंत्रों के माध्यम से दर्द से राहत उत्पन्न होती है।

उच्च-आवृति की TENS थेरेपी (आवृति लगभग 80-120 हटर्ज [Hz]) मस्तिष्क को पीड़ा संकेत पहुँचने की रोकथाम करती है। इसके अतिरिक्त, एक आंतरिक ओपिओइड, डायनॉरफिन के स्राव में वृद्धि होती है जो दर्द से राहत प्रदान करता है। राइफ के अनुसार 20 हर्टज [Hz] तक उत्प्रेरण का एक सामान्य एनाल्जेसिक प्रभाव होता है।

कम-आवृति के उत्प्रेरण (आवृत्ति लगभग 1-10 हर्टज [Hz]) के द्वारा भी आंतरिक ओपिओइड (एंडोर्फिन, एनसेफालिन, एंडोमोर्फिन) स्रावित हेते हैं लेकिन वे उच्च-आवृत्ति से अलग होते हैं। TENS थेरेपी का अन्य चिकित्सकीय पीड़ा उपचारों उपायों के साथ संयोजन भी संभव हैं।[/li_item][li_item icon=””]इस्तेमाल

सिरदर्द

चेहरे का दर्द

कंधे का दर्द

कोहनी का दर्द

हाथ में दर्द

रीढ़ की हड्डी में दर्द (ग्रीवा, वक्ष, कमर)

नितंब संबंधी पीड़ा

कूल्हे का दर्द

घुटने के दर्द

स्नायुजाल में दर्द

टखने में दर्द

अंगविच्छेदन दर्द

प्रेत दर्द[/li_item][li_item icon=””]अपने थेरेपी प्रभारी (डॉक्टर या प्राकृतिक स्वास्थ्य पेशेवर) से TENS थेरेपी की चर्चा करें!

निम्नलिखित परिस्थितियों या दशाओं में आप किसी भी परिस्थिति के अंतर्गत उपकरण का इस्तेमाल नहीं कर सकते :

डिवास का मोबाइल फोन या माइक्रोवेव ओवन (उच्च आवृत्ति के उपकरण) के साथ समवर्ती इस्तेमाल करने से बचें

अस्पष्ट दर्द के कारण से

धातु प्रत्योरापेण (जैसे “कुल्हा प्रत.यारोपण”, “कृत्रिम घुटना”)

गंभीर हृदय आतलता

त्वचा की खुजली, खुले घाव (इन क्षेत्रों पर इलेक्ट्रोड मत रखें!)

कैलोस त्वचा क्षेत्रों (इन क्षेत्रों पर इलेक्ट्रोड मत रखें!)

मिरगी

कैरोटिड साइनस उत्तेजना (कैरोटिड धमनी के संवेदनशील क्षेत्र)

पेसमेकर और अन्य प्रत्यारोपित इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (जैसे डिफाइब्रिलेटर)

गर्भावस्था

डिवास का मोबाइल फोन या माइक्रोवेव ओवन (उच्च आवृत्ति के उपकरण) के साथ समवर्ती इस्तेमाल करने से बचें [/li_item][li_item icon=””]इलेक्ट्रॉड का प्लेसमेंट और ध्रुवाभिसा

-> इलेक्ट्रौड का आकार उपचार किए जाने वाले क्षेत्र के अनुकूलित होना आवश्यक है।

->जोड़ों के इलाज के लिए छोटे इलेक्ट्रॉड की सिफारिश की जाती है और बड़ों की कमर के उपचार के लिए।

-> इलेक्ट्रॉड उनकी पूरी सतह के साथ त्वचा से मजबूती से चिपके होना आवश्यक है।

इलेक्ट्रॉड लगाने के विभिन्न तरीके हैं।. यह सबसे ज्यादा प्रभावह होता है जब आप एनोड (इलेक्ट्रॉड जो लाल तार से जुड़े होते हैं) को सीधे पीड़ा क्षेत्र पर लगाया जाए और कैथेड (इलेक्ट्रॉड जो काली तार से जुड़े होते हैं) दर्द के विकिरण क्षेत्र पर लगाए जाएं (इलेक्ट्रॉड स्थापना के उदाहरण देखें)।

चूंकि यह कुछ मामलों में संभव नहीं है, उदाहरण तीव्र माइग्रेन आघात, इलेक्ट्रॉड को इस प्रकार रखें कि करंट प्रवाह दर्दयुक्त क्षेत्र से गुजरे (करंट हमेशा दो इलेक्ट्रॉडों में से गुजरता है)।

िरिवर्स ध्रुवियता भ आजमाएं।

एक अन्य संभावना इलेक्ट्रॉडों को उसी क्षेत्र में लगाना, परंतु शरीर के विपरीत हिस्से की तरफ (उदाहरण देखें इलेक्ट्रॉउ लगाना)। इस स्थापन की सिफारिश माइग्रेन, त्रिपृष्ठी तंत्रिकाशूल और प्रेत दर्द के लिए की जाती है।[/li_item][/checklist][content_boxes layout=”icon-on-top” title_size=”” icon_circle=”” icon_size=”” icon_align=”left” columns=”4″ margin_top=”” margin_bottom=”” class=”” id=””][content_box title=”Migraine” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से के मुख्य पीड़ा क्षेत्र में लगाएं, उदाहरण, माथे के बाई तरफ। कैथेड (काले इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से के टेंपल पर लगाएं। अटैक होने की स्थिति में, अप्रभावित दिशा में उत्प्रेरण की सिफारिश की जाती है।

माइग्रेन TENS

[/content_box][content_box title=”तनाव सिरदर्द” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते के मुख्य पीड़ा क्षेत्र पर लगाएं, उदाहरण माथा। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को गर्दन के प्रभावित हिस्से पर लगाएं।

तनाव सिर दर्द TENSतनाव सिर दर्द TENS

[/content_box][content_box title=”वैकल्पिक तनाव सिरदर्द” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में बाल रेखा के नीचे लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को कंधे के प्रभावित स्थल पर लगाएं।Spannungskopfschmerzen TENS[/content_box][content_box title=”चेहरे का दर्द, त्रिआयामी तंत्रिकाशूल” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में कान के अग्रभाग पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को गर्दन के प्रभावित हिस्से में प्रभावित तंत्रिका पर लगाएं। कर्णपटी एवं अधोहनु जोड़ दर्द : एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में पीड़ाग्रस्त क्षेत्र पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को गर्दन के प्रभावित हिस्से में पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के नीचे लगाएं।

चेहरे का दर्द TENS

[/content_box][/content_boxes][content_boxes layout=”icon-on-top” title_size=”” icon_circle=”” icon_size=”” icon_align=”left” columns=”4″ margin_top=”” margin_bottom=”” class=”” id=””][content_box title=”Shoulder pain” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के मुख्य भाग पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को जोड़ के विपरीत हिस्से पर लगाएं।कंधे के दर्द TENS[/content_box][content_box title=”कोहनी दर्द टेनिस कोहनी” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] (पार्श्व रेडियल कंधे) एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के ऊपर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को जोड़ के विपरीत हिस्से में पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के नीचे लगाएं।कोहनी दर्द TENS[/content_box][content_box title=”कोहनी दर्द गोल्फर कोहनी” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] (Epicondylitis कंधे का जोड़) नोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के ऊपर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से पर पीड़ाग्रस्त क्षेत्र के नीचे लगाएं।गोल्फर-बांह TENS[/content_box][content_box title=”Hand pain” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में मुख्य पीड़ाग्रस्त क्षेत्र पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से के दूसरी ओर लगाएं।हाथ का दर्द TENS[/content_box][/content_boxes][content_boxes layout=”icon-on-top” title_size=”” icon_circle=”” icon_size=”” icon_align=”left” columns=”4″ margin_top=”” margin_bottom=”” class=”” id=””][content_box title=”Alternative hand pain” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में मुख्य पीड़ाग्रस्त क्षेत्र पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से में पीड़ा के विकिरण क्षेत्र में लगाएं।हाथ में दर्द TENS[/content_box][content_box title=”रीढ़ की हड्डी में दर्द सर्वाइकल स्पाइन” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में मुख्य पीड़ाग्रस्त क्षेत्र पर लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को विपरीत हिस्से में, रीढ़ के अप्रभावित दिशा में लगाएं।रीढ़ की हड्डी में दर्द TENS[/content_box][content_box title=”Alternative spinal pain” icon=”fa-star-o” backgroundcolor=”” iconcolor=”#ffffff” circlecolor=”#81d742″ circlebordercolor=”” iconflip=”” iconrotate=”” iconspin=”no” image=”” image_width=”35″ image_height=”35″ link=”” linktext=”” linktarget=”_self” animation_type=”0″ animation_direction=”down” animation_speed=”0.1″] एनोड (लाल इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्ते में बालों की रेखा से नीचे लगाएं। केथोड (काले इलेक्ट्रॉड) को प्रभावित हिस्से में पीड़ा के विकिरण क्षेत्र में लगाएं।रीढ़ की हड्डी में दर्द TENS[/content_box][/content_boxes][sharing tagline=”यह लेख साझा करें :” tagline_color=”” title=”” link=”” description=”” pinterest_image=”” icons_boxed=”” icons_boxed_radius=”4px” box_colors=”” icon_colors=”” tooltip_placement=”” backgroundcolor=”” class=”” id=””][/sharing]

Leave a Reply

Your email address will not be published.